आत्म परिवर्तन की चर्चा को हम मानसिक परिवर्तन से आरंभ करते हैं। हमारा मन ऐसे विचारों से बना है जिनका कोई तत्व नहीं है। मन के ये विचार बातचीत का रूप लेते हैं। मौन रहने की साधना मानसिक परिवर्तन का आधार है। इस लेख में मैं वार्तालाप का वर्णन करूँगा। अगले आत्म परिवर्तन लेख में मैं मौन रहने की साधना पर लिखूँगा।

मानव अवेगों में बात करने की इच्छा बहुत बड़ी होती है। यह माना जाता है कि सभी जीवजन्तु अपनी अपनी भाषा में संवाद करते हैं। परंतु मनुष्य ने अपनी विकसित बुद्धि द्वारा विस्तृत संभाषण प्रणाली का निर्माण किया है। आप अपनी चारों ओर देखें तो लोगों को अधिकतर समय बात करते हुए ही पाएंगे। बोले गए हर शब्द सुने नहीं जाते हैं। बात करने की प्रवृति बेचैन मन से उत्पन्न होती है। क्या ऐसी संभाषण उपयोगी है या व्यर्थ, सकारात्मक है या नकारात्मक यह तो हर व्यक्ति की व्याख्या पर निर्भर है। इस विषय पर और चर्चा करने से पहले चलिए हम यह जानें की वार्तालाप कितने प्रकार के होते हैं, उसकी क्या उत्पत्ति और क्या प्रभाव होता है। मन की गतिविधियों के आधार पर बातचीत तीन प्रकार के होते हैं –

१. बाह्य

इस प्रकार के वार्तालाप बाहरी संसार पर केंद्रित मन का परिणाम होते हैं। दूसरों के साथ शब्दों या इशारों से की गई हर प्रकार की बातचीत बाह्य होती है। यह संभाषण ही अधिकतर लोगों के दिन का अधिकांश भाग होता है। यह फोन, ईमेल इत्यादि हो सकते हैं। इस प्रकार के संभाषण मन की अशांति को बढ़ाते हैं। मन के बाहर की ओर केंद्रित होने का यह एक प्रमुख कारण है। मन जब बहिर्मुखी बन जाता है वह बाहरी वस्तुओं से आनंद उठाने पर विवश हो जाता है। ऐसी यात्रा अनंत आनंद प्रदान करने में असमर्थ होती हैं – इस में कुछ छोटी खुशियां तो मिल सकती हैं किंतु परमानंद नहीं मिल सकता।

इन वार्तालापों की संख्या को जितना हो सके कम करें – यह मन को अपने अंदर की ओर केंद्रित करने की एक निपुण विधि है। संभवतः आप के व्यक्तिगत, व्यावसायिक एवं सामाजिक गतिविधियों के कारण इन्हें तत्काल रोकना संभव नहीं, परंतु यदि मेहनत करें तो आप धीरे-धीरे इस पथ पर अवश्य प्रगति करेंगे। यदि आप को लंबी अवधियों के लिये शांत रहने की आदत हो जाए तो मन में शांति की अनुभूति करेंगे। यह स्वतः बात करने की प्रवृति को कम करेगा। अगली बार मौसम, राजनीति आदि के विषय पर बात करना चाहते हों तो उस प्रवृति को रोकें क्योंकि आप को उससे कुछ भी नहीं मिलेगा और संभवतः वह अन्य व्यक्ति वास्तव में आपके दृष्टिकोण को सुन भी नहीं रहा हो। संभाषण के समय अधिकतर लोग वास्तव में आप की बातों को ध्यान से सुनते नहीं हैं। वे केवल वक्ता की बात पूरी होने की प्रतीक्षा कर रहे होते हैं ताकी वे स्वयं अपनी बात प्रारंभ कर सकें।

अधिकतर सामाजिक संभाषण व्यर्थ एवं अनावश्यक होते हैं जिसके कारण मन उतावला रहता है। सामाजिक नेटवर्किंग वेब साइटों के आगमन से इस प्रकार के वार्तालाप हमारे जीवन का एक बड़ा अंश बनते जा रहे हैं। यह केवल अधीर मन की बेचैनी बढ़ा रहा है।

२. मानसिक

इस प्रकार के संभाषण एक अस्थिर मन का परिणाम होते हैं। जब आप किसी से बात नहीं कर रहे हैं संभवतः आप अपने आप से बातचीत कर रहे हैं। विचारों का अनुकरण करना और मन को उस में व्यस्त रखना मानसिक बातचीत होती है। यह आप के मन को शांत नहीं रहने देती हैं। शांतिपूर्वक ध्यान करने में मानसिक बातचीत सबसे बड़ी बाधा होती है। कईं वर्षों से समाज और बाहरी दुनिया से प्रभावित होने के कारण आपके मन को बाह्य अथवा मानसिक बातचीत करने की आदत हो गयी है। एक बेचैन मन का स्पष्ट लक्षण मौन रहने की असमर्थता है। विचारमग्न मन, रोता हुआ नकारात्मक मन, कामुक भावुक मन और एक बातूनी बेचैन मन यह सब मानसिक संभाषण के उदाहरण तथा स्रोत और प्रोत्साहन हैं। जहाँ तक मुझे ज्ञात है इन वार्तालापों को रोकने की केवल दो विधियां हैं। एक अस्थायी विधि है अपने मन को कहीं और अलंकृत करना या एक स्थायी समाधान है अपने मन को शांत करना। एक बौद्धिक इच्छा (बौद्धिक इच्छा के विषय में आप इच्छा वृक्ष नामक लेख में जानेंगे) की ओर अपने मन को केंद्रित करने से आप मन को कहीं और अलंकृत कर सकते हैं। भक्ति भाव में अपने आप को स्थापित करके या ध्यान के अभ्यास के द्वारा मन को शांत किया जा सकता है।

यद्यपि ध्यान का मार्ग कठिन है, एकाग्रता एवं संकल्प से महत्वपूर्ण परिणाम मिल सकते हैं। जब तक आप को ध्यान के अभ्यास में प्रवीणता प्राप्त नहीं होती तब तक मानसिक संभाषण के बारे में सचेत रहें। यदि आप अपने आप को मानसिक वार्तालाप करते हुए पाएं तो उस को तुरंत बंद करें। उसे नियंत्रित या प्रतिबंधित करके नहीं रोकना चाहिए अपितु उपेक्षित करके या अपने लक्ष्य की ओर ध्यान केंद्रित करके रोकना चाहिए। याद रखें कि आपका मन तभी बात करता है जब आप उस की सुनते हैं।

३. सूक्ष्म

यदि आप किसी और से बात नहीं कर रहे हैं और ना ही अपने आप से बात कर रहे हैं तो संभवत: आप सूक्ष्म संभाषण कर रहे हैं। मन अशांत एवं बेचैन है तो आप उसे व्यस्त रखना चाहते हैं, कईं बार अनिच्छा से – जिस प्रकार एक अधीर और शरारती बालक के माता पिता उसे व्यस्त रखना चाहते हैं। ये सूक्ष्म वार्तालाप क्या है? यदि आप किसी से बात नहीं कर रहे हों, ना ही अपने आप से बात कर रहे हैं किंतु आप दूसरों को बात करते हुए सुन रहे हों तो आप सूक्ष्म बातचीत कर रहे हैं। सूक्ष्म बातचीत को पता लगाना कठिन है। वास्तव में आपका मन देखी या सुनी गई बातों का परीक्षण कर रहा है जिससे आप या तो सुख या दुख का अनुभव करते हैं अथवा केवल मन व्यस्त रहता है। इन वार्तालापों द्वारा आप कुछ उपयोगी नहीं कर सकते। टेलीविज़न देखना या रेडियो सुनना सूक्ष्म बातचीत के उदाहरण हैं। बिना किसी पूर्वाग्रह से देखा जाए तो सामान्य रूप से पुरुष पहले दो प्रकार के वार्तालाप महिलाओं जितना नहीं करते हैं इसलिए वे प्राय: इस प्रकार के बातचीत में और अधिक व्यस्त रहते हैं। महिलाओं की तुलना में आप पुरुषों को टेलीविज़न और अधिक देखते हुए पाएंगे। जितना अधिक मन उतावला है व्यक्ति उतना ही अधिक चैनलों को बदलता है। पुस्तक पढ़ना एक उपयोगी प्रकार का सूक्ष्म संभाषण है। पुस्तक पढ़ते समय आप का मन परीक्षण करने से अधिक सुन रहा है और सीखने में मगन है।

संक्षेप में एक अनियंत्रित मन को अधीरता से बाहर आने का एक द्वार चाहिए और बातचीत ठीक वही प्रदान करती है। यदि मन सदैव बात करता रहे तो कैसे मौन अवस्था प्राप्त कर सकता है! इसी कारण लोगों को नींद आरामदायक लगती है। नींद से शारीरिक लाभ मिलता है और व्यक्ति को सपनों के अतिरिक्त बातूनी मन का कोई आभास ही नहीं होता। इसी कारण नींद के समय ही मस्तिष्क की कोशिकाओं की मरम्मत होती है। सूक्ष्म बातचीत पर अपनी निर्भरता को जांचने के लिए पूर्व निर्धारित कुछ दिनों के लिए समाचारपत्र नहीं पढ़ने, टेलीविज़न नहीं देखने या रेडियो नहीं सुनने का संकल्प एक अच्छी विधि है। यदि आप किसी वस्तु से वंचित हों तभी यह पता लगाया जा सकता है कि आप उस पर कितना निर्भर हैं।

वार्तालाप की प्रकृति (उदाहरणार्थ भौतिक या आध्यात्मिक वार्तालाप) से आप के मन की स्थिति पर एक अस्थायी असर पड़ सकता है। कोई भी संभाषण सुखदायी, अप्रिय या तटस्थ हो सकता है। आप को सुखद बातचीत दिलचस्प लगती है। अप्रिय बातचीत से आप दूर रहना चाहते हैं और तटस्थ बातचीत आप के रुचि के अनुसार आप को कैसी भी लग सकती है। किसी भी वार्तालाप में रुचि होना या ना होना यह आप के सोच-विचार से प्रभावित मन पर निर्भर है। उदाहरण के लिए जिसने अपने मन को राजनीति या वाहनों की जानकारियों से अभ्यस्त किया हो उसे उन विषयों में और अधिक रुचि होगी उनकी तुलना में जो ललित कला या साहित्य में रुचि रखते हों।

मन बहुत शांत होता है यदि वह अपने वश में हो और वह कोई भी प्रकार के संभाषण नहीं करे। ऐसी शांति में ही आप मन के वास्तविक स्वरूप का अनुभव कर सकते हैं। यदि मन चाहे लंबी अवधि के लिए इस शांति के अनुभव को धारण करने में सक्षम रहें तो समाधी आप के लिए सहज है। एक बार समाधी को बनाए रखने में आप सक्षम हो जायें तभी वास्तविक कार्य आरंभ होता है। इसके बारे में बाद में लिखूँगा।

इन वार्तालापों को त्यागने के लिए जिन प्रथाओं को अपनाया जा सकता है उनका मैं आगे अन्य किसी लेख में वरण करूँगा। अभी के लिए केवल इस विषय पर जागरूकता ही आप को उकसाने के लिए पर्याप्त है। और निस्संदेह आप सचेत प्रयास से सभी प्रकार की बातचीत को कम कर सकते हैं और एक शांत मन का लाभ उठा सकते हैं।

शांति।

स्वामी