पिछले एक लेख में, मैं ने इस पर विवरण किया था कि कृतज्ञता कैसे आप को और दृढ़ बनाती है। आज मैं आप के समक्ष प्रस्तुत करता हूँ कृतज्ञता की प्रणाली, दो प्रकार की कृतज्ञता, तथा आप और अधिक कृतज्ञ बनने हेतु क्या कर सकते हैं। मैं यह दोहराना चाहूंगा कि कृतज्ञता सबसे गहरी भावनाओं में से एक है। यदि आप कृतज्ञ हों, तो आप स्वत: ही करुणामय, आनंदमय एवं शांत हो जाते हैं।

वैसे देखा जाए तो कृतज्ञता का केवल यह अर्थ नहीं कि आप आभारी हैं। इस का अर्थ है कि आप स्वीकृति, संतोष, सहिष्णुता एवं शालीनता के साथ कृतज्ञ हैं। आप के भावनात्मक परिवर्तन के मार्ग पर आप को एक सुदृढ़, बेहतर और प्रसन्न व्यक्ति बनाने हेतु कृतज्ञता अत्यंत महत्वपूर्ण है। आप अपने कार्यों, शब्दों एवं विचारों द्वारा कृतज्ञता प्रदर्शित कर सकते हैं। आप के कार्यों और शब्दों से दूसरों को तुरंत लाभ होता है। इस से पहले कि मैं वास्तविक प्रणाली पर चर्चा करूँ, चलिए पहले हम दो प्रकार की कृतज्ञता को जानें। ये दोनों परस्पर भिन्न नहीं होते और कईं महान व्यक्ति इन दोनों विधियों का प्रयोग करते हैं –

ईश्वर के प्रति आभारी होना

कुछ व्यक्ति ईश्वर के प्रति आभारी होते हैं। उस परमात्मा के प्रति कृतज्ञ जो उन्हें लगता है कि ऊपर स्वर्ग में हैं। इस से उन को एक बहुत बड़ा मानसिक बढ़ावा मिलता है और जीवन के कठिन चरणों का सामना करने में यह उनकी मदद करता है। इस से उन्हें प्रेरणा मिलती है और उन्हें कईं अन्य प्रकार के लाभ भी हो सकते हैं। चाहे वे जिस धर्म का भी पालन करते हों, यदि वे ईश्वर के अस्तित्व में विश्वास करते हैं तो उन के लिए आभारी होने के लिए एक परमात्मा हैं। यहाँ तक कि दैनिक प्रार्थना भी कृतज्ञता का एक रूप है। परंतु भगवान के प्रति आभारी होना ही पूर्ण कृतज्ञता नहीं है। कल्पना करें कि आप एक माँ के प्रति कृतज्ञ हैं परंतु उसकी संतान के प्रति उदासीन अथवा लापरवाह हैं। ऐसी कृतज्ञता का क्या लाभ? भगवान के प्रति आभारी होने से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है उसकी रचना अर्थात उसके बच्चों के प्रति आभारी होना। यह हमें हमारे अगले विषय दूसरे प्रकार की कृतज्ञता की ओर ले जाता है।

दूसरों के प्रति आभारी होना

प्रेम और कृतज्ञता एक जोड़ी हैं; प्रसन्नता और सद्भाव उनकी संतान हैं। जब तक आप यह स्वीकार नहीं करते कि आप के लिए किसी ने कुछ किया है तब तक कृतज्ञ होना असंभव है। यदि अहंकार या अज्ञान के कारण आपको यह प्रतीत होता है कि वह तो आप का अधिकार था तो आप आभारी महसूस करने में सफल ही नहीं हो पाएंगे। इस के फलस्वरूप आप को ना तो प्रसन्नता मिलेगी ना आप को शांति और आनंद का अनुभव होगा। जिस रिश्ते में भी कृतज्ञता हो वह अवश्य विकसित होगा। यदि आप कृतज्ञता को अपनायें तो निश्चित रूप से आप अपने भीतर एक परिवर्तन को उभरते हुए पाएंगे। और यदि आप इसे लंबी अवधि तक करते रहें तो शीघ्र ही इसके परिणाम से आप विस्मित हो जाएंगे। कृतज्ञता सदैव कोई असामान्य कृत्य नहीं होता। यह एक हार्दिक धन्यवाद प्रकट करना अथवा एक असाधारण दयालुता का काम भी हो सकता है। अब मैं इस प्रणाली के विषय में विवरण करता हूँ।

इस प्रणाली को सफलतापूर्वक अपनाने हेतु आप को दो सूचियां बनानी होंगी –
पहली सूची – ईश्वर के लिए – जीवन में आप जिस के लिए भी आभारी हैं उन वस्तुओं की एक सूची बनाएं। उदाहरणार्थ आप का स्वास्थ्य, घर, वस्त्र, भोजन, परिवार, अवसर या जो कुछ भी आप के लिए बहुत महत्व रखता है। आप की सूची में आप लिख सकते हैं कि हे ईश्वर मैं इस इस वस्तु के लिए आप का आभारी हूँ।
दूसरी सूची – दूसरों के लिए – उन लोगों की सूची बनाएं जो आप के जीवन में बहुत महत्व रखते हैं, जिन व्यक्तियों ने आप के जीवन को प्रभावित किया है, जिन के कारण आप का जीवन बदल गया है। वे आप के पति अथवा पत्नी हो सकते हैं अथवा माता-पिता, शिक्षक, मित्र, साथी, यहाँ तक कि ऐसे व्यक्ति हो सकते हैं जिन से आप की कभी भेंट ही ना हुई हो किंतु जिन्होंने आप को प्रेरित किया है।

कृतज्ञता की प्रणाली

प्रारंभ में चालीस दिन की अवधि के लिए निम्नलिखित प्रणाली का प्रयोग करें और फिर इसे अपने जीवन में पूर्ण रूप से अपना लें –
१. प्रति दिन प्रात: काल तथा रात्री सोने के पूर्व अपनी पहली सूची को पढ़ें।
२. अगले चालीस दिनों के लिए, प्रति दिन दूसरी सूची से कम से कम एक व्यक्ति के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करें। उन्हें धन्यवाद कहने के लिए यह एक साधारण ईमेल हो सकता है, एक फोन कॉल, उन के लिए एक कप कॉफी, उन्हें आप फूल भेज सकते हैं अथवा ऐसा कुछ भी कर सकते हैं जिस से आप अपनी भावना को व्यक्त कर सकें। इन चालीस दिनों की अवधि में, प्रति दिन आप को अपने शब्दों या कार्यों द्वारा किसी व्यक्ति के प्रति कृतज्ञता व्यक्त कर के उसे प्रसन्न करना है।
३. एक जर्नल में हर रात को हाँ या ना द्वारा अथवा विस्तृत रूप से यह लिखें कि आप इस उद्देश्य में सफल हुए कि नहीं। यदि आप किसी भी दिन चूके, तो उस दिन से फिर चालीस दिनों की अवधि प्रारंभ करें।

केवल इतनी सी बात है। विधि अत्यंत सरल है। जैसे जैसे आप इस पथ पर आगे बढ़ते रहें आप अपनी सूची में और बातों को जोड़ सकते हैं। महत्वपूर्ण विषय यह है कि आप को बिना किसी अपेक्षा के आभार व्यक्त करना चाहिए। यह कठिन है परंतु असंभव नहीं। अटल कृतज्ञता द्वारा आप उदार, दयालु और करुणामय बन जाते हैं।

आप इस विधि का प्रयोग करें और स्वयं निर्णय करें कि यह आप के लिए प्रभावशाली है कि नहीं। आप को अतुल्य भावनात्मक शक्ति प्राप्त होगी। यदि आप भावनात्मक रूप से दृढ़ हों, तो आप किसी कार्य में भी सफलता प्राप्त कर सकते हैं। कृतज्ञता आप को भावनात्मक रूप से पवित्र बनाती है और इस के द्वारा आप अप्रतिबंधित रूप से स्नेहमय बन पातें हैं।

हीरा और कोयला दोनों एक ही खान में पाए जाते हैं। वे दोनों कार्बन के शुद्धतम रूप हैं, परंतु उन की आणविक संरचना भिन्न होती हैं। किंतु हीरे और कोयले को एक ही दृष्टि से नहीं देखा जाता। क्या आप एक भट्ठी में जल कर अपना अस्तित्व खो देना चाहते हैं अथवा एक शादी की अंगूठी में जड़ कर प्रेम का प्रतीक बनना चाहते हैं यह आप की मानसिकता, दृष्टिकोण एवं पसंद पर निर्भर है।

यदि आप ध्यान दें, तो यह पाएंगे कि कृतज्ञ होने के लिए जीवन में बहुत कुछ है। प्रसन्न रहें, कृतज्ञ रहें। मैं आशा करता हूँ कि आप यह जानते हैं कि आप कितने भाग्यशाली हैं।

जाएं और किसी को जाकर बताएं कि वे आप के जीवन में कितना अहम महत्व रखते हैं।

शांति।
स्वामी