मुझे अक्सर दुनिया भर के पाठकों से ईमेल आते हैं, उनमें से अधिकतर की कोई समस्या होती है, कुछ की अनेक समस्याएं होती हैं। परंतु विषय यह नहीं कि उन की इतनी समस्याएं हैं, मुद्दा तो यह है कि वे इन समस्याओं के बीच प्रसन्न रहने में असमर्थ हैं। इसलिए यह एक आम धारणा है कि यदि हमारी समस्या दूर हो जाए, तो हमारी पीड़ा भी दूर हो जाएगी और यदि कोई पीड़ा ना हो, तो हम सुखी हो जाएंगे। कदाचित ही यह संभव है।

मनुष्य के अधिकतर कार्य या व्यवसाय खुशी प्राप्त करने की इच्छा और संतुष्टि का अनुभव करने के लिए ही किए जाते हैं। किंतु सुख ही अंतिम लक्ष्य नहीं है। हाँ यह एक परिणाम हो सकता है, परंतु सर्व प्रथम यह एक मानसिक अवस्था है।

भौतिक संपत्ति, बौद्धिक कारनामे एवं सामाजिक मान्यता की सहायता से आप संतुष्टि का अनुभव तो कर सकते हैं परंतु यह प्रसन्नता सीमित और अस्थायी होगी। आपके आनंद की मौलिक अवस्था इस पर निर्भर नहीं कि आपके पास क्या है या क्या नहीं है। चलिए मैं आपको प्रसन्नता के तीन पहियों के विषय में बताता हूँ, जिनके साथ जुड़े हैं तीन अमूल्य प्रश्न। यदि आपके जीवन का वाहन इन तीन पहियों पर खड़ा हो, तब आप अपनी यात्रा सहजता और प्रसन्नतापूर्वक पूरी करेंगे।

१. स्वीकृति

क्या मैं सब कुछ स्वीकार कर सकता हूँ और क्या मैं शांति का मार्ग चुन सकता हूँ?

स्वीकृति एक दिव्य तत्व है। यदि आप दूसरों को बिना किसी अपेक्षा के स्वीकार करते हैं तो तुरंत आपके कण कण में शांति भर जाती है। अस्वीकृति प्रतिरोध करने के समान होती है – प्रवाह के विरुद्ध तैरने के समान, यह सदैव कठिन होती है।

वसंत के मौसम में चारों ओर फूल खिले होते हैं और तब कुछ व्यक्तियों के शरीर पराग को स्वीकार करते हैं और वह स्वस्थ रहते हैं। अन्य व्यक्ति के शरीर उसे ठुकरा देते हैं और उस से लड़ने का प्रयास करते हैं। इसके फल स्वरूप उन के शरीर में बलगम का गठन होता है और उन्हे बुख़ार हो जाता है। इसी प्रकार आपको केवल तभी लड़ने की या प्रतिरोध करने की आवश्यकता पड़ती है जब आप स्वीकार नहीं कर पाते। यदि कोई प्रतिरोध ही ना हो तो कोई प्रतिक्रिया भी नहीं होगी।

स्वयं को प्रसन्न करने के लिए जब तक आप दूसरों पर निर्भर हैं, तब तक अन्य व्यक्ति आपकी मानसिक स्थिति को प्रभावित और निर्धारित करते रहेंगे। यह अति आवश्यक है कि आप लोगों को स्वीकार करने और परिस्थितियों को स्वीकार करने में अंतर जानें। आप लोगों को नहीं बदल सकते हैं परंतु आपके जीवन में उनका होना या ना होना आपकी परिस्थितियों को बदल सकता है। यदि आप लोगों से खुश नहीं हैं, तो इस समस्या के समाधान के लिए आपको अपने अंदर झांक कर देखना होगा। यदि आप अपनी परिस्थितियों से खुश नहीं, तो आपको उन परिस्थितियों को बदलने पर विचार करना होगा।

स्वीकृति का यह अर्थ नहीं कि जिसे आप महत्वपूर्ण मानते हैं उसे भुला दें। इस का यह अर्थ है कि आप अपने वर्तमान परिस्थितियों या परिणामों के कारण अपनी मन की शांति को भंग ना करें।

२. प्रवृत्ति

मैं इसका सामना कैसे करना चाहता हूँ?

दूसरा पहिया है प्रवृत्ति। आप कैसे जीवन का अनुभव और सामना करते हैं ये जीवन के प्रति, दूसरों के प्रति, और अपने आप के प्रति आपके दृष्टिकोण पर निर्भर है। जब आप सदैव इस सोच में डूबे रहते हैं कि आपका जीवन कैसा होना चाहिए या कैसा हो सकता है और जब आप ख़याली पुलाव पकाते रहते हैं, तब आपके पास पहले से जो है उस का महत्व शीघ्र ही कम होने लग जाता है।

मुल्ला नसरुद्दीन एक बार जर्जर वस्त्र पहने हुए एक थके हुए व्यक्ति से मिला जिसके हाथ में एक बोरी थी। मुल्ला नसरुद्दीन से रहा नहीं गया और वह पूछा, “जीवन कुशल मंगल तो है ना?”

उस व्यक्ति ने कहा, “कैसे हो सकता है? मेरे पास ना कोई घर है ना भोजन, ना कोई नौकरी ना कोई धन। जो कुछ भी है वह इस बदबूदार छोटी बोरी में है।”

बिना कुछ कहे, मुल्ला ने उसकी बोरी छीन ली और तुरंत भाग गया। उस व्यक्ति ने उसका पीछा किया परंतु उस को पकड़ नहीं पाया। कुछ देर बाद, मुल्ला ने सड़क के बीच उसकी बोरी रख दी और एक दुकान के पीछे जा कर छिप गया।

वह आदमी तेजी से आया, अपने पैरों पर गिरा, अपनी बोरी को पकड़ा और खुशी के आँसू बहाते हुए बोला, “आह मेरी बोरी ! मुझे अपनी बोरी वापस मिल गयी। मुझे लगा कि मैं तुम्हें फिर कभी नहीं देख सकूंगा! धन्यवाद ईश्वर! मुझे अपनी बोरी वापस मिल गयी।”

मुल्ला खुद से बोला “चलो, यह हुआ ना रास्ता किसी को खुश करने का!”

दुखी लोग अपना समय उसे पाने की चिंता में बिताते हैं जो उन के पास नहीं है। जीवन में जैसी भी परिस्थितियों का सामना करना पड़े स्वयं से यह पूछिए – मैं इसका सामना कैसे करना चाहता हूँ?

अपने आप को याद दिलाएं कि आप के पास दो रास्ते हैं, एक सकारात्मक रवैया अपनाने का या फिर नकारात्मकता का रास्ता। आपको चुनना होगा।

३. जागरूकता

क्या मैं प्रसन्नता की ओर बढ़ रहा हूँ या उस से दूर जा रहा हूँ?

इससे पहले कि आप किसी भी स्थिति में एक प्रतिक्रिया चुनें, आप के पास कुछ क्षण होते हैं जिस में आप को अपना अंतिम निर्णय करना होता है। सही निर्णय और प्रतिक्रिया के लिए जागरूकता की आवश्यकता है। यदि आपकी कोई आदत हो, अच्छी या बुरी, तब जागरूकता दुर्बल हो जाती है और आपकी प्रतिक्रिया एक स्वत: कार्य हो जाता है। उदाहरणार्थ, समझ लें कि कोई ऐसा व्यक्ति हो जो आसानी से क्रोधित हो जाए, और हर प्रतिकूल स्थिति में उसकी अभिक्रिया क्रोध ही हो। क्योंकि यह उसकी आदत है, शीघ्र ही वह बिना जाने ही अपने आप को क्रुद्ध पाएगा। जब उस का क्रोध शांत हो जाए उस के बाद ही उसेयह अहसास होगा कि वह क्रोधित हुआ था और संभवतः वह क्षमा भी मांगे। इसी प्रकार कईं लोग किसी विशेष कारण से नहीं, केवल अपनी आदत और प्रवृत्ति के कारण दुखी होते हैं।

जागरूकता विकसित करने के लिए अभ्यास एवं सतर्कता की आवश्यकता है। जागरूकता द्वारा आप सही मार्ग पर चलने लगेंगे। आप के कर्म या तो आप को प्रसन्नता की ओर या उस से दूर ले जा सकते हैं। इससे पहले कि आप किसी भी स्थिति में एक प्रतिक्रिया चुनें, स्वयं से पूछें –  क्या मैं प्रसन्नता की ओर बढ़ रहा हूँ या उस से दूर जा रहा हूँ? बड़ी सावधानी से अपनी प्रतिक्रिया का चयन करें – बहुत कुछ इसी पर निर्भर है।

यदि आप अपने आप को, दूसरों को और परिस्थितियों को वैसे के वैसे रहने दें और केवल शांति का मार्ग चुनें, तो आप प्रसन्नता को स्वत: आकर्षित करेंगे। खुशी आप का दृष्टिकोण है, इस को स्वयं से दूर ना होने दें। शेक्सपियर ने सही ही कहा है, “दूसरे व्यक्ति की आँखों  से देखो तो प्रसन्नता भी कितनी कड़वी लगती है।”

क्या आप सदैव प्रसन्न रह सकते हैं? हाँ। कैसे? प्रसन्न रहने की कामना को त्याग दें। खुश होने की इच्छा से ना बंधें। और जिस से आप बंधे ही नहीं उसे आप खो कैसे सकते हैं!

शांति।

स्वामी