दो वर्ष पूर्व एक ध्यान के सत्र में मैंने एक ऐसा ऐप बनाने की घोषणा की थी, जिसकी सहायता से हम सभी अपने अपने स्थानों पर रहते हुए भी, एक साथ बैठकर ध्यान कर सकेंगे। इसे मैंने “पिन प्रिक इफ़ेक्ट” नाम दिया था जिसके विषय में मैंने यहाँ पर लिखा था। वैसे देखा जाये तो इसमें कोई नई बात नहीं है क्योंकि इससे पहले भी लोगों ने भौगोिलक परिवर्तन के विचार से समूहों में ध्यान लगाया है। लगभग १२ वर्ष पूर्व एक अत्यंत बुिद्धमान व्यक्ति जिज्ञासा साई ने एक ५ मिनट की वार्तालाप में मुझे कुछ ऐसी ही बात कही थी, कि ऐसा कुछ होना चाहिए जिसकी सहायता से संसार के विभिन्न हिस्सों में लोग एक पूर्व निर्धारित समय पर एक साथ ध्यान हेतु बैठ सकें।

उस समय मैंने उनकी बात पर अधिक विचार नहीं किया और निश्चित रूप से उस विषय में कुछ काम नहीं किया। और अब इतने वर्ष बीत जाने के पश्चात हम जो ऐप आरंभ कर रहे हैं, वह ठीक उसी प्रकार से काम ही नहीं करेगा अपितु यह हमारे लिए उससे भी अधिक सहयोगी सिद्ध होगा। इसलिए सर्वप्रथम तो मैं आपसे इसके लिए किसी प्रकार की प्रशंसा की अपेक्षा नहीं रखता। वास्तव में मुझे ऐसा लगा था कि यह विचार मेरा स्वयं का है। केवल कुछ महीनों पहले जब मुझे १२ वर्ष पूर्व की बात याद आई तब मुझे अपनी भूल का अहसास हुआ। जैसा कि कहा जाता है “चाहे आपका विचार कितना भी नवीन क्यों ना हो आपसे पहले ही इस पर पांच और अधिक समझदार लोगों ने ना केवल काम करना आरंभ कर दिया होगा वरन वे इसका अगला कदम भी सोच चुके होंगे।”

दूसरी बात यह कि इस छोटे से ऐप को देखकर इसे बनाने में कितनी मेहनत लगी होगी इसका अनुमान लगाना अत्यंत कठिन है। टीम के अन्य सदस्यों की मेहनत से तुलना की जाए तो मेरे स्वयं का प्रयास (लगभग ४०० घंटे) अत्यंत छोटा है। यदि मैं यहाँ उन सब के नाम एवं उनके विशेष योगदान को उद्धृत करूँ तो लेख बहुत लंबा हो जाएगा। इसलिए उनके नाम ऐप के ‘अबाउट’ सेक्शन में दिए गए हैं। आपसे अनुरोध है कि ‘अबाउट’ सेक्शन को अवश्य देखें। कुछ ने इसके लिए अवसंरचना तथा अन्य संसाधन दिए, कुछ ने आर्थिक रूप से सहयोग किया, तथा अन्य ने इसे अपनी प्रतिभाओं एवं योग्यताओं से इसमें सहयोग किया है। इस ऐप में ध्यान के लिए जिस संगीत का प्रयोग किया गया है केवल उसका मूल्य ही हजारों डॉलर है।

अंततः यह सब आप लोगों का ही विचार है व आप लोगों का ही ऐप है। यह आप जैसे लोगों द्वारा ही निर्मित है और आप जैसे लोगों के लिए ही है।

किंतु केवल विचार, ऐप या इसकी उपलब्धता ही मात्र हमें लक्ष्य तक नहीं पहुंचा सकती।

१९६५ के भारत-पाकिस्तान युद्ध में पाकिस्तानी सेना के पास अमरीकी पैटन टैंक थे जो कि अभेद्य थे। ऐसा दावा किया गया था कि इन्हें किसी भी प्रकार भेदा नहीं जा सकता था। इन टैंकों ने अनेक लड़ाईयां जीत लीं और वे युद्ध क्षेत्र में आराम से स्वतंत्रता पूर्वक घूमते रहते और जहाँ चाहते गोला फेंक देते थे।
भारत की सेना के कमांडर एक लम्बे कद के सिख थे। उन्होंने कहा – “हर समस्या का हल होता है। इससे उभरने का भी कोई मार्ग अवश्य होगा।”
उन्होंने अपने सैनिकों से कहा कि वे टैंक के एक ही स्थान पर लगातार गोलियां दागते रहें।
“गोलियों के दबाव एवं गर्मी से टैंक का वह स्थान पिघल जाएगा,” उन्होंने कहा।
और निःसंदेह यह विधि सफल रही। गोलियों ने टैंक को उसी प्रकार भेद दिया जैसे कि गर्म चाकू मक्खन के आर पार हो जाता है। अंत में सेना ने इतने पैटन टैंक (९७) पकड़े कि वह शहर बाद में पैटन नगर कहलाने लगा।

सफलता की चाबी मात्र यह जानने में नहीं है कि किया क्या जाए। वरन जब तक हम लक्ष्य तक ना पहुँच जाएं जो हमने जाना है, उसे दृढ़ निश्चयपूर्वक, धैर्यपूर्वक निरंतर तब तक करते रहने में है। ऐसा ही ब्लैक लोटस ऐप के साथ भी है। जितने व्यक्ति ध्यान करेंगे यह उतना ही लाभदायक होगा। जितने अधिक व्यक्ति उतना ही अधिक हितकारी। इस ऐप की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं –

१. सार्वजनीन ध्यान

प्रत्येक माह के हर दूसरे और चौथे शनिवार को हम सब भारत के शाम ६:०० बजे ध्यान हेतु बैठेंगे। यह सत्र लगभग ७ मिनट का होगा। जब यह सत्र समाप्त हो जाएगा तो ऐप में यह सत्र “पास्ट मेिडटेशन” के शीर्षक से उपलब्ध रहेगा ताकि आप इस पर पुनः ध्यान कर सकेंगे। एकांतवास के समय मेरे पास इंटरनेट नहीं रहेगा इसलिए मैंने पहले से ही ध्यान की रिकॉर्डिंग करवा दी है। किंतु मेरा आपसे वादा है कि मैं एकांत वास के समय भी हर ग्लोबल मेिडटेशन (सार्वजनीन ध्यान) में आपके साथ ध्यान हेतु बैठूंगा।

२. व्यक्तिगत ध्यान

इन व्यक्तिगत ध्यान के द्वारा (जो की दयालुता, क्षमा, शांति, आभार तथा अन्य शीर्षकों से दिए गए हैं) आपको मैं “स्वयं की खोज” की यात्रा में सम्मिलित होने के लिए आमंत्रित कर रहा हूँ। हर ध्यान में दो प्रकार की रिकॉर्डिंग दी गईं हैं। पहले मैंने स्वयं बोलकर निर्देशन दिया है और दूसरे में मात्र संगीत दिया गया है। आप जिसे भी पसंद करें उस पर ध्यान कर सकते हैं। चाहे तो आप इसे ऐप से सीधे चला लें अथवा इसे डाउनलोड कर लें। यदि आप डाउनलोड कर लेंगे तो आप जब ध्यान करने बैठेंगे तो यह ‘स्टार्ट’ पर क्लिक करने पर तुरंत आरंभ हो जाएगा (डाउनलोड होने की प्रतीक्षा किए बिना)।

३. विडियो

इस ऐप के लिए मैंने विशेष रूप से १९ छोटी विडिओ की श्रृंखला रिकॉर्ड करवाई है। शुरुआत में आप इन में से पांच विडियो देख सकेंगे। इसके पश्चात श्रृंखला समाप्त होने तक हर माह एक नयी विडियो का प्रकाशन किया जाएगा। आप देखेंगे कि पहली विडियो में मैंने “ब्लैक लोटस ऐप” के स्थान पर “दी पिन प्रिक इफ़ेक्ट ऐप” कहा है। ऐसा इसलिए है कि यह विडियो हमने फरवरी माह में रिकॉर्ड की थी। किंतु जब हमने इस ऐप को गूगल पर चलाने हेतु अनुमति चाही तो उन्होंने इस नाम को यह कहते हुए अस्वीकार कर दिया कि यह उनकी प्रतिरूपण नियमों का हनन करता है। मैंने कहा कोई बात नहीं और फिर उससे भी अधिक सुंदर ब्लैक लोटस का जन्म हुआ।

४. उद्धरण, हास्य, समाचार, कार्यक्रम तथा पुस्तकें

ऐप का यह सेक्शन एक ऐसे स्थान के रूप में निर्मित किया गया है जहाँ आप अपना दिन शांतिपूवर्क पुस्तकों, विभिन्न कार्यक्रमों की जानकारी लेते हुए बिता सकते हैं या बस प्रसन्न रह सकते हैं। यह विशेष रूप से तब उपयोगी है जब आप कार्य के स्थल पर महत्वपूर्ण मीटिंग या त्रैमासिक मूल्याकंन में व्यस्त हों!

५. प्रकाशन अनुसूची

१) नवंबर तक माह के प्रथम शनिवार को एक व्यक्तिगत ध्यान सत्र प्रकाशित किया जाएगा
२) माह के प्रत्येक द्वितीय व चौथे शनिवार को एक नया सार्वजनीन ध्यान प्रकाशित किया जाएगा
३) माह के तीसरे शनिवार ध्यान पर आधारित एक नई विडियो प्रवचन प्रकाशित किया जाएगा

६. महत्वपूर्ण बातें

१) मैं यह सलाह देना चाहूँगा कि आप यदि अधिकतम लाभ लेना चाहते हैं तो ऐप के ध्यान का अभ्यास करते समय हेडफ़ोन अथवा ईयर फ़ोन का प्रयोग करें। हमने इनको रिकॉर्ड करते समय आवाज को जानके उसी डेिसबल पर रखा है जिससे यह हेडफ़ोन पर अच्छी तरह सुनाई दे। हाँ आप अवश्य बिना हेडफ़ोन अथवा ईयर फ़ोन के भी ध्यान कर सकते हैं।
२) यह अपरिष्कृत संस्करण है। हालाँकि हमने इसको बेहतर बनाने का हर संभव प्रयास किया है पर अभी निश्चित रूप से यह नहीं कहा जा सकता है कि यह बृहद स्तर पर कैसे कार्य करेगा। इसलिए कृपया संयम रखें। यदि यह ऐप अटक जाए अथवा धीमी गति से डाउनलोड हो तो कृपया शांत रहें। ऐसा मान के चलें कि यह ऐप का एक विशेषता है जो आपके भीतर धैर्य का विकास करने में सहायता करता है।
३) आप इस ऐप के विषय में अपने सुझाव आश्रम की वेबसाइट (यहाँ) के सम्पर्क हेतु फ़ॉर्म का प्रयोग करके संचालक टीम को लिखकर अथवा blacklotusapp.org पर जाकर दे सकते हैं।
४) ध्यान अथवा कोई भी प्रवचन इस ऐप पर प्रकाशित होने के एक माह बाद “ब्लैक लोटस यूट्यूब चैनल” (यहाँ) पर उपलब्ध होगा। आप इसे सबस्क्राइब कर सकते हैं। इस चैनल पर कुछ सुंदर भजन हैं तथा अन्य संगीत के विडियो भी हैं। निर्देश के बिना संगीत मात्र ध्यान ऐप पर ही उपलब्ध हैं।
५) मेरी चैनल (omswamitv) पर प्रति सप्ताह प्रकाशित होने वाले विडियो और ब्लॉग की पोस्ट उसी प्रकार चलते रहेंगे।

ऐप से संबंधी कुछ बाधाएं अवश्य होंगी। मैं यह आशा करता हूँ कि आप स्वयं के और औरों के हित के लिए धैर्य रखें और इन बाधाओं को कुछ समय तक सहें जब तक की हम ऐप का अगला संस्करण प्रकाशित ना करें।

अगले कदम

हमारी टीम निरंतर रूप से ऐप को और बेहतर करने तथा और भी श्रेष्ठतर संस्करण प्रकाशित करने हेतु काम कर रही है। ऐप को सुधारने के अतिरिक्त हमारी टीम एक अत्यंत रोमांचक वैशिष्ठ्य पर काम कर रही है जो अभी रहस्यमय है। इतना रहस्यमय कि मैं भी नहीं जानता कि यह क्या है (मैं केवल व्यंग्य कर रहा हूँ!)। हम आशा करते हैं कि अगले वर्ष यह प्रकाशित किया जाएगा।

यह अमूल्य ऐप पूर्णरूप से निःशुल्क है। इसे बनाने हेतु लोगों ने रात दिन एक कर दिया और कईं बार समय पर भोजन भी नहीं करा। किंतु खुशी इस बात की है कि यह करते समय किसी भी व्यक्ति को ठेस नहीं पहुँची।

और अंत में ऐप डाउनलोड करने की लिंक नीचे दी जा रही हैं –

आइफ़ोन और आइपॉड के लिए
आईपैड के लिए
सभी ऐंड्रॉड फ़ोन और टैबलेट के लिए

मैं आशा करता हूँ कि समस्त सीमाओं, देशों और धर्मों से परे इस सारे संसार को एक परिवार की भाँति देखने और एक दूसरे की कुशलता के लिए प्रार्थना करने की सुंदर यात्रा में मेरे साथ जुड़ने के लिए आप सब अवश्य प्रयास करेंगे।

शांति।
स्वामी