हम में से अधिकांश ने आकर्षण के नियम के विषय में पढ़ा है और अधिकतर व्यक्ति यह जानने को उत्सुक होंगे कि क्या यह वास्तव में सच है| क्या यह वास्तव में संभव है कि मात्र सोचने से ही आप संपत्ति, प्रेम तथा शांति को आकर्षित कर सकते हैं। संभवतः नहीं? इसमें कोई संदेह नहीं कि हर कार्य का प्रारंभ विचार से ही होता है परंतु सपनों की पूर्ती के लिए कर्म अत्यधिक महत्वपूर्ण होता है। ऐसा कहने के उपरांत भी, ऐसे लाखों व्यक्ति हैं जो अपने जीवन में परिवर्तन लाने के विषय में विचार करते हैं, प्रार्थना करते हैं तथा दृढ़ परिश्रम भी करते हैं, फिर भी उनके जीवन में कोई परिवर्तन नहीं आता। ऐसा क्यों है कि आप के सर्वश्रेष्ठ प्रयत्न करने पर भी परिस्थितियां नहीं बदलतीं?

इस वर्ष के आरंभ में (जनवरी में) मैं ने लिखा था कि आप के लिए एक गहरे रहस्य का खुलासा करूँगा। मैंने लिखा था कि कैसे प्रकृति से साथ पूर्ण योग होने पर आप की चेतना को आप असाधारण रूप से विस्तृत कर सकते हैं। कुछ इस प्रकार से कि जैसे प्रत्येक मनुष्य एक बूँद के समान समुद्र में मिल कर स्वयं अथाह और शक्तिशाली समुद्र बन जाए। एक बूंद समुद्र नहीं होता परंतु अनेक बूंदों से ही समुद्र बनता है, अन्यथा समुद्र का कोई अस्तित्व ही नहीं होता। इसी प्रकार, ब्रह्मांड को आकर्षित करने हेतु एक विशाल स्तर पर जाने की आवश्यकता है। और इस के लिए हमें सामूहिक चेतना को जागृत करना होगा। इस से पहले कि यह बातें और जटिल प्रतीत हों, मैं अपने सिद्धांत की व्याख्या तीन अंशों में करता हूँ –

प्रथम अंश – मानव शरीर

मानव शरीर किस से बना है? क्या हो यदि हम हड्डियों, मांस और पेशियों के परे देखें? हमारा शरीर अरबों लघु कोशिकाओं से बना है। शोधकर्ताओं के अनुसार यदि अनुपात के दृष्टिकोण से गणना की जाये तो हमारे शरीर में ३७ ट्रिलियन कोशिकाएं है। कोशिकाओं के प्ररूप के अनुसार यह संख्या कम अथवा अधिक हो सकती है (३५ बिलियन से ७२४ ट्रिलियन)। उदाहरणार्थ शरीर में त्वचा कोशिकाएं, जो की विरल हैं, केवल ३५ बिलियन की गणना में हैं।

फिर भी तर्क के लिए मान लेते हैं कि हमारे शरीर में ३७ ट्रिलियन कोशिकाएं हैं। हमारे शरीर की प्रत्येक कोशिका में स्वयं की बुद्धि होती है। प्रत्येक कोशिका अपने आप में स्वतंत्र इकाई है और इनमें एक झिल्ली होती है जो लगभग मस्तिष्क के समान ही काम करती है। जैसे हम सामाजिक या न्यायिक ढाँचे में स्वतंत्रता का उपयोग करते हैं, वैसे ही हमारी कोशिकाएं प्रकृति के नियमों के अधीन हैं। मानव कोशिकाएं स्वयं की स्वतंत्रता और शरीर के जैविक प्रणाली का एक अनोखा संतुलन हैं।

परमाणुओं से कोशिकाएं, कोशिकाओं से अणु, अणुओं से उत्तक बनते हैं, उत्तकों से अंग, अंगों से अंगप्रणाली, और अंगप्रणाली से जीव बनता है।

द्वितीय अंश – लौकिक शरीर और मनुष्य

हम अपने आस पास की यथार्थ प्रतिकृति हैं। पृथ्वी पर लगभग ७०% जल है, और हमारे शरीर में भी ७०% जल है। ब्रह्माण्ड में अनगिनत तारे हैं, और हमारे शरीर में भी अनगिनत रोमछिद्र हैं। हम जो भी भोजन करते हैं वह प्रकृति से उत्पन्न होता है, इसी ग्रह में से। हम ना केवल प्राकृतिक संसाधनों पर निर्भर हैं, हम ही स्वयं प्राकृतिक संसाधन हैं। हम स्वयं प्रकृति हैं। प्रत्येक जीव (मानव, पशु, पौधे एवं शैवाल) इस प्रकृति का अंश हैं।

हमारी आकाशगंगा में १०० अरब तारे हैं और ब्रह्मांड में अरबों आकाशगंगाएँ हैं। ग्रहों और आकाशगंगाओं के बीच का अंतर्तारकीय स्थान एक प्रकार से उत्तकों और अंगों के बीच का अंतर्तारकीय स्थान के समान है। हम (सभी जीवित प्रजातियां) ब्रह्माण्ड में वैसे ही हैं जैसे हमारे शरीर में कोशिकाएं प्राथमिक जीवन घटक हैं।

हम सभी ब्रह्माण्ड में एक कोशिका की भांति हैं। हम अपने आप में कितने भी शक्तिशाली क्यों न हों, वास्तव में हमारा अस्तित्व ब्रह्माण्ड में अत्यंत लघु है। जितना लघु हम सोच सकते हैं उससे भी कहीं अधिक लघु। परंतु बड़े स्तर पर हर एक का अस्तित्व ब्रह्माण्ड के लिए महत्वपूर्ण है। यदि हमारे शरीर की हर कोशिका काम न करे तो हमारा शरीर उसी समय निर्जीव हो जाएगा। इसी प्रकार यदि प्रत्येक मनुष्य अपना कार्य करना बंद कर देता है तो पूरी सृष्टि पर अकल्पनीय प्रभाव पड़ेगा।

तृतीय अंश- ब्रह्माण्ड को आकर्षित करना

आकर्षण का नियम लौकिक शरीर का ध्यान आकर्षित करने पर आधारित है। उसका स्तर मानव स्तर की तुलना में अत्यंत विशाल है – मानो एक चींटी किसी हाथी को रोकने का प्रयास कर रही हो। एक साधारण व्यक्ति के लिए जो सम्पूर्ण जीवन का प्रयास हो वह ब्रह्मांडीय चेतना के लिए मात्र क्षणिक है। हमारे स्वयं के प्रयास या विचार कोई सर्वव्यापी परिवर्तन नहीं ला सकते। हालांकि ऐसे प्रयास एक व्यक्ति द्वारा आरंभ किये जा सकते हैं परंतु स्थाई या प्रभावी परिणाम हेतु सामूहिक चेतना की आवश्यकता होती है। और यह मेरे निबंध का सबसे महत्वपूर्ण भाग है।

क्या आप ने कभी इस पर विचार किया है कि आप चाहे कितने भी तल्लीन क्यों न हों, यदि एक मच्छर भी आप को काट ले तो आप का ध्यान उस ओर चला जाता है। हमारे शरीर में कहीं भी एक सुई का चुभना भी हमारा ध्यान खींच लेता है। इसी प्रकार यदि हमें लौकिक शरीर का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करना है तो हमें उस को धीरे से उकसाना होगा। यह केवल एक मनुष्य के व्यक्तिगत प्रयास से संभव नहीं अपितु इस के लिए एक सामूहिक प्रयास की आवश्यकता होगी। यदि अनेक व्यक्ति ठीक एक समय पर एक विषय पर ध्यान करें तो ब्रह्मांडीय चेतना को आकर्षित कर सकते हैं जिस के द्वारा अकल्पनीय परिवर्तन लाए जा सकते हैं।

यहाँ एक महत्वपूर्ण प्रश्न उठता है- लौकिक शरीर पर सुई के चुभने का प्रभाव पैदा करने के लिए कितने साधकों की आवश्यकता होगी? इसका उत्तर है जितने व्यक्ति हों साधना उतनी ही उत्तम होगी। परंतु ब्रह्मांडीय चेतना में एक लहर लाने के लिए न्यूनतम संख्या ८००० और समुचित रूप से ९,०००,००० व्यक्ति चाहिए। मैं ने कैसे इस संख्या की गणना की (यदि आप को संख्याओं में दिलचस्पी न हो तो अगले अनुच्छेद को पढ़ने की आवश्यकता नहीं है)

मैं अपने प्रस्ताव का आरंभ इस प्रकार कर रहा हूँ कि एक सूई की नोक की चुभन भी उस जगह हमारा ध्यान खींचती है जहाँ वह चुभती है। मान लें मानव शरीर में यदि ३७ ट्रिलियन कोशिकाएं हैं और सूई की नोक का व्यास ०.१२७mm है तो १mm का गहरा छेदन लगभग ९ मिलियन कोशिकाओं को प्रभावित करेगा। और यदि मैं केवल त्वचा कोशिकाओं (३५ बिलियन) को ही अपनी गणना में लूं तो १mm का गहरा छेदन लगभग ८,००० कोशिकाओं को प्रभावित करेगा। चूँकि मैं एक सैद्धांतिक भौतिक विज्ञानी नहीं हूँ इसलिए मैंने यह प्रश्न एक फोरम में रखा और एक भौतिक विज्ञानी ने कृपापूर्वक मुझे विस्तृत उत्तर दिया। यह संख्या उसी उत्तर के आधार पर ली गई है।

इसका अर्थ यह है कि यदि ८,००० व्यक्ति संसार के भिन्न हिस्सों में एक समय पर एक ही विषय पर अपनी सुविधा से अपने ही घर में पांच मिनट का ध्यान करें तो लौकिक शरीर का ध्यान खींच सकते हैं। हम गुणात्मक रूप से लौकिक शरीर को प्रभावित नहीं कर सकते जब तक ४.५ मिलियन लोग एक ही समय पर एक ही विषय पर ध्यान न करें। ४.५ मिलियन लोग क्यों? क्योंकि यह ८,००० एवं ९ मिलियन का मध्यमान है (यहाँ तक की माध्यिका भी है)। परंतु हम निश्चित रूप से ८,००० व्यक्तियों के साथ आरंभ अवश्य कर सकते हैं।

मैं यह सुझाव नहीं दे रहा कि हम इस ज्ञान का उपयोग निजी प्रयोजन के लिए करें (जबकि हम कर सकते हैं)। इसके स्थान पर मैं यह प्रस्ताव करता हूँ कि हम विश्वव्यापी शांति, समृद्धि तथा शांति के लिए ध्यान करें। आज तकनीक (इंटरनेट) ने संभव किया है कि कुछ लाख व्यक्ति आपस में आराम से तालमेल कर सकते हैं और एक निश्चित समय पर समान ध्येय के लिए ध्यान कर सकते हैं।

हम एक ऐसे समाज में हैं जहाँ एक निम्न स्तरीय विडियो को एक करोड़ दर्शक कुछ ही घंटो में मिल जाते हैं। मुझे विश्वास है कि कुछ ऐसे अच्छे लोग भी हमारी धरती पर हैं जो दूसरों के जीवन में परिवर्तन लाना चाहते हैं। जब हम वैश्विक प्रसन्नता के स्तर को उठायेंगे तो स्वयं निजी शांति और समृद्धि का स्तर भी बढ़ेगा। जब चारों ओर लोग अधिक सुखी होंगे तो हमारी दुनिया स्वयं ही बेहतर हो जायेगी।

यदि आप को यह विचार पसंद आया तो आगे पढ़ें और इस उदार एवं विश्वव्यापी ध्येय की प्राप्ति के लिए मेरे साथ चलें जिस से की हम इस दुनिया के लिए कुछ योगदान कर सकें और इस प्रक्रिया में अपने जीवन को समृद्ध बना सकें।

सूई के चुभने का प्रभाव

विचार अत्यंत सरल है। हमें कम से कम ८,००० व्यक्ति ऐसे चाहिए होंगे जो सप्ताह में एक दिन पांच मिनट के लिए ध्यान कर सकें। यह आप कहीं से भी कर सकते हैं- घर में, ऑफिस में, पार्क में, अपनी गाडी में बैठे हुए भी। सच में कहीं से भी और इसमें एक पैसा भी नहीं खर्च करना होगा। हम सभी एक ही समय पर ध्यान शुरू करेंगे और एक समय पर समाप्त भी करेंगे चाहे हम दुनिया में कहीं भी हों। आप को इसके लिए किसी वस्तु पर कुछ भी नहीं खर्चना होगा कहीं आना-जाना भी नहीं होगा। हम एक विषय का चुनाव करेंगे और उस पर निश्चित किये हुए समय पर पांच मिनट ध्यान करेंगे। कैसे ध्यान करना है इस विषय पर मैं एक परिचयात्मक विडियो पोस्ट कर सकता हूँ। और एक निर्देशित ध्यान प्रक्रिया भी पोस्ट कर सकता हूँ जिसे हम हर बारह सप्ताह में बदल सकते हैं।

मेरा मानना है कि जिस दिन हमें ४.५ मिलियन व्यक्ति मिल जायेंगे, उस दिन एक मौन आध्यात्मिक क्रांति का आरंभ होगा। यह न केवल प्रतिभागी ध्यान-साधकों के जीवन में परिवर्तन लाएगा किंतु पूरी दुनिया में परिवर्तन लाएगा। और एक दिन जब भविष्य में ९ मिलियन लोग ध्यान करेंगे तो हम आकर्षण के नियम को विश्वव्यापी स्तर पर क्रियाशील होता देख पाएंगे।

इस आंदोलन से जुड़ने के लिए, इस विषय पर विशेष रूप से बनाये गए फेसबुक पेज को पसंद करें (यहाँ पर)। इस के लिए मैंने एक सुलभ वेबसाइट pinprick.org भी बनाई है।

यदि ९ मिलियन व्यक्ति आप की शांति और प्रसन्नता के लिए एक साथ ध्यान करेंगे तो आप अपने जीवन में परिवर्तन देख पाएंगे। और यह निश्चित रूप से इस आशय में मददगार होगा यदि आप उन ९ मिलियन लोगों में से एक होंगे जो दूसरों के भले के लिए ध्यान करेंगे।

सभी मनुष्य एक दूसरों से जुड़े हुए हैं और एक दूसरों पर निर्भर हैं। प्रत्येक के विचार एवं कार्य का किसी और पर प्रभाव होता है। हम सामूहिक ध्यान की इस शक्ति और अंतर्दृष्टि का प्रयोग एक महान परिवर्तन लाने में कर सकते हैं।

शांति।
स्वामी

अनुलेख – अधिक जानकारी के लिए pinprick.org को देखें