ॐ स्वामी

तनाव से निपटना

एक आदमी कभी भी तनावग्रस्त नहीं रहता था, और उसके सभी पड़ोसी इस बात से चकित थे। और जानने के लिए यह वार्ता पढ़ें।

हमारी दुनिया कभी कभी एक तनावपूर्ण जगह हो सकती है। हमने इसे कुछ अधिक जटिल एवं द्रुत बना दिया है। लोगों की अपेक्षा यह है कि सब कुछ तुरंत हो जाना चाहिए। मानव दक्षता को अब दिन, सप्ताह और महीनों के स्थान पर घंटे, मिनट तथा क्षणों में जांचना शुरू कर दिया गया है। क्या ऐसा करना आवश्यक है? यह हमारे शारीरिक एवं भावनात्मक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है और इसने हमारे जीवन में तनाव को और बढ़ा दिया है। आप एक झटके में अचानक पूरी दुनिया को तो नहीं…read more

दयालुता का एक निरुद्देश्य कार्य

मेरी रोटी का प्रश्न एक भौतिक विषय है, परंतु मेरे पड़ोसी की रोटी का प्रश्न, एक आध्यात्मिक विषय है। ~निकोलाई बर्ड़यैव

निकोलाई बर्ड़यैव एक रूसी विचारक और अस्तित्ववादी थे। उन्होंने एक बार कहा – “मेरी रोटी का प्रश्न एक भौतिक प्रश्न है, किंतु मेरे पड़ोसी की रोटी का प्रश्न एक आध्यात्मिक प्रश्न है”। यह है दयालुता की संक्षिप्त परिभाषा। संभवतः करुणा केवल एक भावना तक सीमित हो सकती है तथा सहानुभूति का एक रूप अथवा एक प्रकार की स्वीकृति हो सकती है। परंतु यदि करुणा के साथ साथ भेंट करने का कार्य भी जुड़ जाए तो वह दया कहलाती है। जब आप किसी व्यक्ति को (जो अजनबी भी हो सकता है)…read more

1