ॐ स्वामी

एक आध्यात्मिक प्रवृत्ति

प्रस्तुत है एक सुंदर सी लघु कथा, आध्यात्मिक प्रवृत्ति की महत्त्व्ता एवं उसका अर्थ उजागर करती हुई।

सुभूति, बुद्ध के प्रमुख शिष्यों में से एक थे व बहुत समय से अपने गुरु की शिक्षाओं को चहुं ओर पहुंचाने के इच्छुक थे। एक सुबह, जब बुद्ध जेतवन में आए हुए थे, तो सुभूति ने उनके ठहरने के स्थान, गंडकुटीर के बाहर बुद्ध को दंडवत प्रणाम किया, व उनके संदेश को चारों दिशाओं में फैलाने हेतु उनकी आज्ञा मांगी। “उठो सुभूति,” बुद्ध ने कहा। “शिक्षक बनना कोई सरल कार्य नहीं होता। यदि आप बहुत अच्छे शब्द भी कह रहे होंगे, तब भी ऐसे बहुत से लोग होंगे तो आपकी…read more

नियति या स्वेच्छा

क्या भाग्य नियंत्रित करता है कि आप कहाँ पहुँचेंगे या आपकी स्वतंत्र इच्छा शक्ति?

क्या सब कुछ पूर्वनिर्धारित है या हमारे पास स्वतंत्र इच्छा शक्ति है? अंततः यदि सब कुछ पूर्वनिर्धारित है तब हम अपने स्वप्नों को पूर्ण करने हेतु कोई प्रयास क्यों करें और यदि यह हमारे हाथों में है, तब हम जीवन में असहाय और अप्रत्याशित परिस्थितियों के माध्यम से क्यों जाते हैं? मात्र कुछ दिनों पूर्व आश्रम के वार्षिकोत्सव के पर्यंत मैंने एक वक्ता द्वारा कही गयी सुंदर कथा सुनी जिसमें देवी माँ की महिमा का वर्णन किया गया था। ४५० से भी अधिक वर्ष पूर्व, भारत में मल्लुक दास नामक…read more

1