अतिरिक्त सामान

आध्यात्मिक प्रगति हेतु हमें स्वयं के मार्ग में रुकावट बनने से बचना होगा, अन्यथा भावनाओं के शिलाखंड बार बार लुड़क कर वापिस आते रहेंगे।


एक छोटी लड़की थी जिसके बालों में नन्हा सा घूँघर था ठीक उसके माथे के बीच में; और जब वह अच्छी होती तब वह बहुत अच्छी होती, और जब वह बुरी होती तब वह वीभत्स होती। ~ एच डब्ल्यू लोंगफेलो हम सभी में अपनी विशिष्टताएं हैं। यह वे वस्तुएं हैं जो हमें घड़ी के समान चलायमान बनातीं हैं या असंतुष्ट करतीं हैं। न जाने कैसे, हमारी मनोदशा परिवर्तित हो जाती है और नकारात्मक विचार हमारी बुद्धि में उसी प्रकार उन्मत्त होने लगते हैं जिस प्रकार किसी केले के खेत में…read more